agricultureFeaturedUttarakhand

शीतकाल में फलों के पौधे रोपने का सही समय, यह सावधानियां जरूरी

  • डॉ. राजेंद्र कुकसाल
  • लेखक कृषि एवं औद्योनिकी विशेषज्ञ हैं
  • 9456590999
जलवायु व समुद्रतल से ऊंचाई के आधार पर फलों के पौधों का चयन करें। 1200 से 1600 मीटर के ऊंचाई वाले स्थानों में आडू,प्लम ,खुबानी के पौधे रोपें। 1600 मीटर से अधिक ऊंचाई वाले स्थानों में आड़ू, प्लम, खुबानी, नाशपाती व अखरोट के पौधे लगाएं।
सेब उत्पादन के लिए उत्तराखंड के अधिक ऊंचाई वाले उत्तरी भाग जो 30 डिग्री उत्तरीय अक्षांश (North latitude) से ऊपर हों (जनपद उत्तरकाशी एवं टिहरी गढ़वाल, देहरादून के अधिक ऊंचाई वाले क्षेत्र) जो हिमाचल प्रदेश के पास हैं या 2000 मीटर से अधिक ऊंचाई वाले क्षेत्र।
यह भी पढ़ें- इस तरह किया जाए अदरक के बीज का भंडारण
उत्तराखंड भौगोलिक रूप से temperate zone नहीं है। उत्तराखंड राज्य 28 – 31 डिग्री उत्तरीय अक्षांश पर है जबकि हिमाचल प्रदेश 30 – 33 डिग्री उत्तरी अक्षांश पर स्थित है।
हिमाचल प्रदेश में जितनी ठंड 1500 मीटर पर पड़ती है, उत्तराखंड में उतनी ही ठंड 2000 मीटर की ऊंचाई पर पड़ती है। यहां अब उतनी ठंड नहीं मिल पाती है, जितनी सेब के पौधों के लिए आवश्यक है।
जहां पर पूर्व में सेब के बाग लगे हों, उन स्थानों में सेब के नये बाग लगाने में सफलता नहीं मिलती है। उन स्थानों पर पर अखरोट व नाशपाती के फल पौधे रोपें।
भूमि का चुनाव एवं मृदा परीक्षण-
फलदार पौधे पथरीली भूमि को छोड़कर सभी प्रकार की भूमि में लगाए जा सकते हैं। परन्तु जीवाँशयुक्त बलुई दोमट भूमि, जिसमें जल निकास की उचित व्यवस्था हो, सर्वोत्तम रहती है।
जिस भूमि में उद्यान लगाना है, उसका मृदा परीक्षण अवश्य कराएं। जिससे मृदा में कार्बन की मात्रा , पीएच मान (पावर ऑफ हाइड्रोजन या पोटेंशियल हाइड्रोजन ) तथा चयनित भूमि में उपलब्ध पोषक तत्वों की जानकारी मिल सके।
यह भी पढ़ें- हकीकत ए उत्तराखंडः खेतू के खेतों में ही सड़ गई अदरक, सरकार को नहीं देता सुनाई
पीएच मान मिट्टी की अम्लीयता व क्षारीयता का एक पैमाना है। यह पौधों के लिए पोषक तत्वों की उपलब्धता को प्रभावित करता है। यदि मिट्टी का पीएच मान कम (अम्लीय) है तो मिट्टी में चूना या लकड़ी की राख मिलाएं।
यदि मिट्टी का पीएच मान अधिक (क्षारीय) है, तो मिट्टी में कैल्शियम सल्फेट (जिप्सम) मिलाएं।
भूमि के क्षारीय व अम्लीय होने से मृदा में पाए जाने वाले लाभदायक जीवाणुओं की क्रियाशीलता कम हो जाती है। साथ ही, हानिकारक जीवाणुओ /फंगस में बढ़ोतरी होती है। मृदा में उपस्थित सूक्ष्म व मुख्य तत्वों की घुलनशीलता पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है।
अधिकतर फल पौधों के लिए 5.5 – 7.5 के पीएच मान की भूमि उपयुक्त रहती है।
अच्छी उपज के लिए मिट्टी में जैविक/जीवांश कार्बन 0.8 तक होना चाहिए, लेकिन अधिकतर स्थानों में यह 0.25 – 0.35 प्रतिशत ही पाया जाता है।
यह भी पढ़ें- उत्तराखंड में कीवी की बागवानी से लाखों की कमाई
कार्बन पदार्थ कृषि के लिए बहुत लाभकारी है, क्योंकि यह भूमि को सामान्य बनाए रखता है। यह मिट्टी को ऊसर, बंजर, अम्लीय या क्षारीय होने से बचाता है। जमीन में इसकी मात्रा अधिक होने से मिट्टी की भौतिक एवं रासायनिक ताकत बढ़ जाती है तथा इसकी संरचना भी बेहतर हो जाती है।
मृदा में जैविक कार्बन का स्तर बढ़ाने के लिए जंगल में पेड़ों के नीचे की ऊपरी सतह की मिट्टी व गोबर/ कम्पोस्ट खाद का प्रयोग अधिक करें।
फलों की किस्मों का चयन-
आडू़ – अर्ली अलवर्टा, रेड जून, पैराडीलेक्स एलिकजेंडर,क्रेफोर्ड अर्ली।
खुबानी- न्यू कैसल, रायल, चारमग्ज, टर्की।
प्लम-     सेंटारोजा, मैरी पोजा।
नाशपाती- रेड वार्टलेट, मैक्स रेड, वार्टलेट, विन्टरनेलिस
यह भी पढ़ें- हितेश नेगी से मुलाकातः डेयरी फार्मिंग का मतलब दूध ही नहीं है, यहां बहुत सारे लाभकारी उत्पाद हैं
अखरोट में प्रयास करें कि कलमी पौधे मिल जाएं। विभागों या परियोजनाओं में दिए गए अखरोट के बीजू पौधों की विश्वसनीयता कम ही है।
सरकारी योजनाओं व परियोजनाओं में आड़ू व प्लम के पौधे सहारनपुर व मैदानी क्षेत्रों में स्थित पंजीकृत पौधशालाओं से क्रय किए जाते हैं। मैदानी क्षेत्रों में इनके पौधे एक ही वर्ष में तैयार हो जाते हैं, जिससे इनके उत्पादन में लागत कम आती है। पर्वतीय क्षेत्रों में इन पौधों के रोपण के बाद मृत्यु दर बहुत अधिक होती है, साथ ही ये लो चिलिंग किस्में हैं। जिनके फलों की बाजार में अपेक्षाकृत मांग कम रहती है।
सहारनपुर व अन्य मैदानी क्षेत्रों की पौधालयों में उगाए गए शीतकालीन फल पौधों को पर्वतीय क्षेत्रों में कदापि न लगाएं। शीतकालीन पौधे पर्वतीय क्षेत्रों की पंजीकृत पौधशालाओं से ही क्रय करें।
इस तरह करें पौधों का रोपण
बाग में 10 फीसदी परागण किस्मों का रोपण अवश्य करें।
बाग लगाने से पूर्व खेतों की सफाई करें तथा बाग रेखांकन (layout)कर ही लगाएं।
पौधों का रोपण उचित दूरी पर करें-
आडू़ ,प्लम खुबानी- 6×6 मीटर, नाशपाती- 8×8 मीटर, अखरोट- 10×8 मीटर।
पौधारोपण के लिए 1×1×1 मीटर के गड्ढे खोदें।
शीतकाल में फल पौधरोपण का यह उपयुक्त समय है।
पौधरोपण से पूर्व खुदे गड्ढों को मिट्टी में खूब सड़ी गोबर की खाद मिलाकर भूमि की सतह से 2 इंच ऊपर तक भरें।
पौधों का रोपण गड्ढे के बीचों बीच करें तथा उतनी ही गहराई में करें, जितना पौधा नर्सरी में दबा था।
पौधे का कलम किया स्थान भूमि से ऊपर रहना चाहिए।
पौध लगाने के बाद उसके आसपास की मिट्टी को पैरों से खूब दबा देना चाहिए।
पौधे यदि दूर से लाए गए हैं तो लगाने से पूर्व उन्हें Trenching अर्थात गड्ढे में कुछ समय के लिए दबा दें, जिससे पूरे पौधे में पानी का संचार हो सके।
पौध लगाने से पूर्व पौधे को ग्राफ्ट से 45-50 सेंटीमीटर पर अवश्य काट लें।

newslive24x7

राजेश पांडेय, देहरादून (उत्तराखंड) के डोईवाला नगर पालिका के निवासी है। पत्रकारिता में  26 वर्ष से अधिक का अनुभव हासिल है। लंबे समय तक हिन्दी समाचार पत्रों अमर उजाला, दैनिक जागरण व हिन्दुस्तान में नौकरी की, जिनमें रिपोर्टिंग और एडिटिंग की जिम्मेदारी संभाली। 2016 में हिन्दुस्तान से मुख्य उप संपादक के पद से त्यागपत्र देकर बच्चों के बीच कार्य शुरू किया।   बच्चों के लिए 60 से अधिक कहानियां एवं कविताएं लिखी हैं। दो किताबें जंगल में तक धिनाधिन और जिंदगी का तक धिनाधिन के लेखक हैं। इनके प्रकाशन के लिए सही मंच की तलाश जारी है। बच्चों को कहानियां सुनाने, उनसे बातें करने, कुछ उनको सुनने और कुछ अपनी सुनाना पसंद है। पहाड़ के गांवों की अनकही कहानियां लोगों तक पहुंचाना चाहते हैं।  अपने मित्र मोहित उनियाल के साथ, बच्चों के लिए डुगडुगी नाम से डेढ़ घंटे के निशुल्क स्कूल का संचालन कर रहे हैं। इसमें स्कूल जाने और नहीं जाने वाले बच्चे पढ़ते हैं। उत्तराखंड के बच्चों, खासकर दूरदराज के इलाकों में रहने वाले बच्चों के लिए डुगडुगी नाम से ई पत्रिका का प्रकाशन करते हैं।  बाकी जिंदगी की जी खोलकर जीना चाहते हैं, ताकि बाद में ऐसा न लगे कि मैं तो जीया ही नहीं। शैक्षणिक योग्यता - बी.एससी (पीसीएम), पत्रकारिता स्नातक और एलएलबी, मुख्य कार्य- कन्टेंट राइटिंग, एडिटिंग और रिपोर्टिंग

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button