मिल्क स्टोरी-2ः इन पशुपालकों के हालात जानकर बहुत दुख होता है

0
215
पशुपालन को प्रोत्साहन देने की बात करने वाला सिस्टम पशुपालकों की दिक्कतों से अंजान कैसे हो सकता है। दुग्ध उत्पादन महज रोजगार ही नहीं बल्कि मानव विकास का महत्वपूर्ण हिस्सा है। डोईवाला ब्लाक के नागल ज्वालापुर में किराये की भूमि पर बसे दो परिवारों से डुगडुगी ने बात की।
पशुपालक गुर्जर परिवारों की दिक्कतों को जानने किए देखिएगा यह वीडियो-

पशुओं के लिए सुरक्षित आश्रय, चारा, पानी आवश्यकताएं तक पूरी नहीं हो पा रही हैं। पशुओं के बाड़ों की तिरपाल, फूस से बनाई छत आंधी में उड़ गई। बाड़ों में पानी भरा है। पशुओं को सुरक्षित रूप से रखने के इंतजाम नहीं हो पा रहे हैं।
वहीं बाजार से खरीदे जाने वाले आहार, दाना, चौकर, खली पापड़ी के रेट पर कोई नियंत्रण नहीं है। लॉकडाउन में तो मनमाने दाम वसूले जा रहे हैं। कालाबाजारी ने पशुपालकों को महंगे दाम पर पशुआहार खरीदने को मजबूर कर दिया।
वन गुर्जर पशुपालन से आय अर्जित करते हैं। दुग्ध उत्पादन ही उनकी आजीविका का जरिया है। श्रम एवं लागत के अनुसार दूध का मूल्य नहीं मिल पा रहा है।
तड़के से शुरू होकर देर रात तक पशुओं की सेवा में लगाने वाले परिवार को प्रतिदिन दस लीटर दूध पर महीने में नौ हजार रुपये मिल रहे हैं, इसी राशि में खर्चे भी शामिल हैं। कुल मिलाकर माह में लगभग पांच हजार की आय।
मिल्क स्टोरी पर हमारे अन्य वीडियो का लिंक यह है-

वनों या वनों के पास रहने वाले इन परिवारों की पहुंच में शिक्षा, स्वास्थ्य, बिजली, पानी सहित कई बुनियादी सुविधाओं का अभाव देखा जा रहा है। बच्चों के शिक्षा चाहते हैं। बच्चे जीवन में आगे बढ़ना चाहते हैं।
कक्षा 3 के छात्र इब्राहिम कहते हैं, मैं मास्टर बनना चाहता हूं। बच्चों के सपनों को हकीकत में बदलने के लिए सहयोग की जरूरत है।
Keywords:-  वन गुर्जरों की स्थिति,  वनगुर्जरों को सुविधाएं,  पशुपालन कैसे करें, पशुपालन से आय, दुग्ध उत्पादन से आय, Van gurjar, Uttarakhand Forest, Education for all, LIfe of gurjar, Life of tribes, पशुआहार की कालाबाजारी
किसी भी सुझाव के लिए संपर्क कर सकते हैं- 9760097344

LEAVE A REPLY