Blog LiveFeaturedstudyUttarakhand

हाल ए हल्द्वाड़ीः “बचपन से सुन रहे हैं कि हमारे गांव तक रोड आएगी, रोड आएगी…,पर यह कब आएगी”

” मैं उस रात को कभी नहीं भूल सकता। बहुत तेज बारिश हो रही थी। गांव से सड़क तक जाने वाला कच्चा रास्ता बंद हो गया था। मेरी पत्नी प्रसव पीड़ा से व्यथित थीं। उनको जल्द से जल्द अस्पताल पहुंचाना था। अस्पताल गांव से बहुत दूर है और हमें तेज बारिश में ही जंगल का पांच किमी. ऊबड़ खाबड़ रास्ता तय करना था। ग्रामीणों के सहयोग से हम किसी तरह एक दूसरे के सहारे आगे बढ़ रहे थे। मुझे याद है, उस समय रात के 12 बजकर 20 मिनट पर, मेरी बिटिया ने रास्ते में ही बारिश में जन्म लिया।”

हल्द्वाड़ी गांव निवासी गंभीर सिंह। फोटो- डुगडुगी

आठ साल पहले की यह बात सुनाते हुए करीब 35 वर्षीय गंभीर सिंह सोलंकी, ईश्वर का शुक्रिया अदा करते हैं। कहते हैं, मुझे हमेशा इसी बात का डर रहता है कि ऐसा किसी के साथ न हो। उनकी बिटिया अब आठ साल की हो गई है। पर, हल्द्वाड़ी गांव से अस्पताल अभी भी, पहले जितना ही दूर है और रास्ता भी उसी हाल में है। हालांकि, गांव वालों ने श्रमदान करके इसको यूटिलिटी चलने लायक बना दिया है, लेकिन जोखिम हमेशा बरकरार है।

यह भी पढ़ें- उत्तराखंड का धारकोटः  बेहद सुंदर गांव, पानी के लिए जोखिम, आत्मनिर्भरता की पहल

“हम बचपन से सुन रहे हैं कि हमारे गांव तक रोड आएगी, रोड आएगी, पर यह कब आएगी। मेरा भाई, गांव से पलायन कर गया। मैं भी, यहां से परिवार को लेकर चला जाऊँगा। मैंने थानो के एक स्कूल में बिटिया का एडमिशन करा दिया है। बेटे का भी वहीं एडमिशन करा दूंगा। आप यहां स्कूल भवन की हालत देख सकते हो। बच्चों को पढ़ाई के लिए बहुत संघर्ष करना पड़ता है, ” यह कहते हुए सोलंकी भावुक हो जाते हैं।

देहरादून जिला के हल्द्वाड़ी गांव निवासी राम सिंह। फोटो- डुगडुगी

किसान राम सिंह अपने गांव की सड़क और पानी की कहानी बताते हुए भावुक हो जाते हैं। कहते हैं, मैं अपना गांव छोड़कर नहीं जाऊंगा। मैं दिहाड़ी मजदूरी करके, झुग्गी झोपड़ी में रहकर गुजर बसर कर लूंगा। राम सिंह हल्द्वाड़ी गांव में रहते हैं।

यह भी पढ़ेंः हकीकत ए उत्तराखंडः सचिवालय में लड़वाकोट का पत्थर रख दें तो क्या सचिवालय लड़वाकोट हो जाएगा

“अगर, हम गांव छोड़ देंगे, तो यहां भूमि बंजर हो जाएगी। मुझे कोई कहीं जगह भी दे देगा, तब भी अपने गांव से पलायन नहीं करुंगा। मुझे अपने गांव से बहुत प्यार है। पर, यहां पानी हो, सड़क हो, बच्चों के लिए स्कूल हो, स्वास्थ्य केंद्र होना चाहिए। स्वास्थ्य खराब होने पर महिलाओं को बहुत परेशानियां उठानी पड़ती हैं, ” राम सिंह कहते हैं।

यह भी देखेंः Video: सड़क नहीं बनेगी तो क्या पलायन कर जाएगा यह गांव

उत्तराखंड के देहरादून जिला के रायपुर ब्लाक के कृषि एवं पर्यटन की संभावनाओं वाले हल्द्वाड़ी और लड़वाकोट गांव के युवाओं से, जब तरक्की के मायनों पर बात करते हैं, तो उनका एक ही जवाब होता है, तरक्की का मतलब सड़क है। अभी तो सड़क हमारे लिए किसी सपने की तरह है।

देहरादून जिला के हल्द्वाड़ी गांव का भ्रमण कराते ग्रामीण। फोटो- डुगडुगी

यह बात तो सौ फीसदी सही है, इन गांवों तक सड़क बन गई तो शिक्षा, स्वास्थ्य, बाजार, कृषि मंडी, आजीविका, रोजगार से जुड़ी दिक्कतें काफी हद तक दूर हो जाएंगी। वहीं पर्यटन यहां स्वरोजगार लेकर पहुंचेगा, ऐसा गांववालों का मानना है।

यह भी पढ़ें- पलेड की चढ़ाई ने मेरी सांसें फुला दीं, बच्चे तो 16 किमी. रोज चलते हैं

पिछली बार आपने हल्द्वाड़ी की पानी की कहानी पढ़ी थी, अब सड़क पर बात करते हैं। हल्द्वाड़ी व लड़वाकोट का रास्ता करीब दो किमी. तक एक ही है और फिर यह दो हिस्सों में बंट जाता है। लड़वाकोट ढलान और हल्द्वाड़ी के लिए ऊंचाई पर बढ़ना होता है। कच्चे रास्ते पर पहाड़ से भूस्खलन हो रहा है। मलबा कच्चे रास्ते पर जमा हो जाता है। बरसात में यह रास्ता चलने लायक नहीं है।

देहरादून जिला के हल्द्वाड़ी गांव के रास्ते में हमें बच्चे और महिलाएं चारा लाने के लिए जंगल जाते हुए दिखे। फोटो- डुगडुगी

रास्ते में महिलाओं और बच्चों को जंगल की ओर रुख करते देखा। वो पशुओं के लिए चारा लेने जा रहे हैं। ईंधन के लिए सूखी लकड़ियां भी लेकर आते हैं। यहां अभी भी कई घरों में मिट्टी के चूल्हों पर ही खाना बनाया जाता है।

देहरादून जिला के हल्द्वाड़ी गांव तक जाने वाला कच्चा व ऊबड़-खाबड़ रास्ता, जो करीब पांच किमी. है। फोटो- डुगडुगी

मैं जिस बाइक पर सवार था, उसको 23 साल के गजेंद्र चला रहे थे। गजेंद्र पहले पुणे के एक होटल में बतौर कुक काम करते थे। बताते हैं, करीब एक साल से गांव में खेतीबाड़ी कर रहे हैं। बाइक ने कई बार रास्ते पर जमे पत्थरों पर उछाल लिया। मैं कुछ घबरा गया।

यह भी पढ़ेंः सनगांव में बच्चों ने सिखाया, थोड़ा सब्र करो

गजेंद्र ने कहा, मुझे पकड़कर बैठो। मैं तो इस रास्ते पर रोज ही बाइक चलाता हूं। बाइक संभलकर चलाओ, कोई दिक्कत नहीं होगी। वैसे भी रिस्क कहां नहीं है। बताते हैं, बाइक और यहां चलने वाली यूटीलिटी के टायर बहुत ज्यादा घिस जाते हैं।

कई बार तो सुबह पांच बजे बाइक से ही ऋषिकेश मंडी तक उपज पहुंचाने जाते हैं। ऋषिकेश मंडी यहां से नजदीक है।

हल्द्वाड़ी गांव तक यह रास्ता जाता है, जो बरसात में भूस्खलन से बंद हो जाता है। फोटो- डुगडुगी

गजेंद्र ने रास्ते से दिखने वाली घाटी के दर्शन कराए। पहाड़, नदियों और आबादी का शानदार नजारा पेश आता है यहां से। कहीं बादल हमसे नीचे घाटी के ऊपर घूमते दिखते और कहीं बहुत ज्यादा ऊंचाई पर पहाड़ों की सैर करते हुए।

देहरादून जिला के हल्द्वा़ड़ी गांव जाते हुए रास्ते से कुछ ऐसा शानदार नजारा पेश आता है। फोटो- डुगडुगी

मैं मन ही मन सोच रहा था, क्या यहां टूरिज्म को बढ़ावा नहीं दिया जाना चाहिए। क्या यहां होम स्टे योजना पर काम नहीं होना चाहिए। क्या इससे स्थानीय जैविक उत्पादों की यूजर्स (उपयोगकर्ताओं) तक पहुंच नहीं बनाई जा सकती। इस पर विस्तार से बात करते हैं, पहले सड़क पर चर्चा।

देहरादून जिला के हल्द्वाड़ी गांव के रास्ते में जंगल में बरसात का पानी इकट्ठा करने के लिए बनाए गए जलाश्य। युवा गजेंद्र बताते हैं, इस पानी को जानवर पीते हैं और ये जल स्रोतों को रीचार्ज करने में सहायक होते हैं। फोटो- डुगडुगी

मैं भी क्या सोचता रहता हूं, हमारे सोचने से होता भी क्या है, यह बात मुझे तब ज्यादा निराश करती है, जब हम राजनीतिक संगठनों की इच्छा शक्ति को बहुत कमजोर पाते हैं। यह बात कहने में कोई हिचक नहीं है, कि यहां वोटों की राजनीति करने वालों पर निर्भर नहीं होना चाहिए और न ही उनकी ओर आशा भरी निगाहों से देखना चाहिए।

हल्द्वाड़ी गांव, की आबादी दूर- दूर बसी है। यहां पास में ही नदी है, हरे भरे खेत हैं औऱ इन सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण बात यह है कि यहां के अधिसंख्यक लोग अपने घरों को छोड़कर कहीं नहीं गए। लोग यहां से नौकरी के सिलसिले में बाहर गए हैं।

हल्द्वाड़ी गांव में यूटिलिटी मालिक हरि सिंह पंक्चर हुए टायर को बदलते हुए। बताते हैं खराब रास्ते की वजह से तीन माह में ही बदलने पड़ते हैं टायर। फोटो- डुगडुगी

यहां रास्ते में गजेंद्र से हुई बातचीत का उदाहरण भी मिल गया। हरि सिंह सोलंकी, अपनी यूटिलिटी का टायर बदल रहे थे। बताते हैं, इस रास्ते पर टायर पंक्चर होना आम बात है। टायर यहां तीन महीने भी नहीं चलते। खराब टायर पर गाड़ी चलाने से  दुर्घटना हो सकती है। हर तीन माह में तीस हजार रुपये खर्चा, रखरखाव अलग से।

” गांव में तीन यूटिलिटी है, जिनमें से दूसरे दिन नंबर आता है। यहां इतनी सवारियां नहीं मिलतीं। देहरादून तक एक सवारी का किराया 150 रुपये यानी आना जाना 300 रुपये में होता है, यहां से पूरी गाड़ी भरकर नहीं जाती। मंडी तक सामान पहुंचाने के लिए पूरी गाड़ी का किराया 15-16 सौ रुपये है” ,हरि सिंह बताते हैं।

हल्द्वाड़ी से देहरादून की दूरी लगभग 35 किमी. है, पर किराया ज्यादा होने की वजह सड़क नहीं होना है। यही वजह है कि ग्रामीण सड़क के अभाव को, तरक्की में बाधा मानते हैं।

विधायक निधि से वर्ष 2018-19 में कच्चा रास्ता बनाने के लिए साढ़े चार लाख रुपये दिए जाने का बोर्ड दिखाई दिया। पर, गांव ने तो सड़क यानी पक्का रास्ता मांगा था।

देहरादून जिला के हल्द्वाड़ी गांव निवासी करीब 90 वर्षीय बुजुर्ग बरफी देवी जी, जिनको वर्षों से गांव तक सड़क व पानी पहुंचने का इंतजार है। फोटो- डुगडुगी

ग्रामीणों ने करीब 90 वर्षीय बुजुर्ग बरफी देवी से मिलवाया। उनका कहना है, मैं तो बहुत साल से सड़क का इंतजार कर रही हूं। चुनाव में मतदान करते समय आप क्या सोचते हैं, पर उनका कहना है कि, मेरे गांव में सड़क और पानी पहुंच जाएं।

हम कच्चे -पक्के रास्तों से होते हुए पूरा गांव घूमना चाहते थे। ग्राम पंचायत के स्तर से सीमेंटेंड रास्ते बने हैं। पर, गांव के दोमंजिला पंचायत घर के भवन की स्थिति खराब है। छत का पलास्तर झड़ रहा है। भवन की हालत देखकर नहीं लगता कि यहां कोई बैठक या कामकाज हो रहे हैं।

हल्द्वाड़ी गांव में पेड़ों की छाया और खेतों के किनारे से होते हुए आंतरिक मार्ग। फोटो- डुगडुगी

70 वर्षीय बसंती देवी से जब पूछा कि आप कितने समय से देहरादून नहीं गए तो उनका कहना था, जब कभी स्वास्थ्य खराब हुआ, तभी देहरादून गए। सड़क बहुत खराब है। सड़क और पानी मिल जाएं तो अच्छा रहेगा।

ग्रामीण जय सिंह बताते हैं कि यहां तक सड़क बनाने के तीन सर्वे हो चुके हैं। ग्रामीणों का कहना है कि सर्वे तो एक बार में ही काफी था, बार-बार करने से क्या होगा। वही रास्ता है और दूरी भी उतनी ही, जितनी पहले और अब है। उन्हें लगता है कि चुनाव के आसपास सर्वे कराने से यह विश्वास दिलाने की कोशिश की जाती है, कि सड़क बन जाएगी।

देहरादून के हल्द्वाड़ी गांव में बुजुर्ग महिला । फोटो- डुगडुगी

अगर, सड़क बन जाती है तो आप किन अरमानों को पूरा कर पाएंगे, के सवाल पर युवा विक्रम सिंह कहते हैं, अपने बच्चों को अच्छी शिक्षा दिला पाएंगे। रोजगार के लिए आसानी से शहर या अन्य स्थानों पर जा सकेंगे। फसलों को बाजार तक कम खर्चे पर पहुंचाया जा सकेगा।

स्वास्थ्य संबंधी दिक्कतों पर अस्पताल तक पहुंचने में दिक्कत नहीं होगी। सड़क बनने से गांव का विकास होगा। किसी को भी रोजगार या शिक्षा के लिए अपना गांव छोड़ने की जरूरत नहीं होगी। बच्चों को 16 किमी. पैदल नहीं चलना पड़ेगा। वो अच्छी तरह से पढ़ाई कर पाएंगे।

ग्रामीण स्पष्ट करते हैं कि कोई भी दल हो, हमें किसी से कुछ लेना -देना नहीं है। पहले गांव को सड़क और पानी उपलब्ध करा दें, फिर वोट मांगने आएं। वो कहते हैं कि अब किसी के बहकावे में नहीं आने वाले।

हल्द्वाड़ी गांव से वापस लौटते हुए दृष्टिकोण समिति के अध्यक्ष मोहित उनियाल, साथ में अरुण नेगी और गजेंद्र सिंह। फोटो-डुगडुगी

सामाजिक कार्यकर्ता अरुण नेगी कहते हैं, पिछली बार वादा किया गया, सड़क बनाएंगे। चुनाव जीतने के बाद उनसे बात करने का समय भी नहीं मिल पाया। पता चलता है, आज वहां हैं और कल वहां हैं।

किसान चरण सिंह कहते हैं, हमारी जिंदगी सड़क का इंतजार करते हुए बीत रही है। हमें अपनी नहीं, बल्कि अपनी पीढ़ियों की चिंता है। क्या वो सुविधाएं नहीं होने पर, यहां रहेंगे।

संभावनाओं वाले गांव में सड़क नहीं होने से तमाम चुनौतियां पैदा हो गई हैं। सड़क कब बनेगी, यह गांव को नहीं मालूम, उनको तो इतना पता है कि इस बार फिर उत्तराखंड में 2022 के चुनाव में राजनीतिक दल आएंगे, अपने-अपने प्लान लेकर, अपने -अपने दावे और वादे लेकर…, गांव से एक बार फिर वोट और सपोर्ट के लिए।

Keywords:- Haldwadi, Dehradun’s Village, Mountain Villages of Uttarakhand, Most beautiful village of Uttarakhand, Water Distribution System in Uttarakhand, Uttarakhand 2022, Uttarakhand Election 2022, A village without road, Roads in Uttarakhand, Villages without roads in Uttarakhand

newslive24x7

राजेश पांडेय, देहरादून (उत्तराखंड) के डोईवाला नगर पालिका के निवासी है। पत्रकारिता में  26 वर्ष से अधिक का अनुभव हासिल है। लंबे समय तक हिन्दी समाचार पत्रों अमर उजाला, दैनिक जागरण व हिन्दुस्तान में नौकरी की, जिनमें रिपोर्टिंग और एडिटिंग की जिम्मेदारी संभाली। 2016 में हिन्दुस्तान से मुख्य उप संपादक के पद से त्यागपत्र देकर बच्चों के बीच कार्य शुरू किया।   बच्चों के लिए 60 से अधिक कहानियां एवं कविताएं लिखी हैं। दो किताबें जंगल में तक धिनाधिन और जिंदगी का तक धिनाधिन के लेखक हैं। इनके प्रकाशन के लिए सही मंच की तलाश जारी है। बच्चों को कहानियां सुनाने, उनसे बातें करने, कुछ उनको सुनने और कुछ अपनी सुनाना पसंद है। पहाड़ के गांवों की अनकही कहानियां लोगों तक पहुंचाना चाहते हैं।  अपने मित्र मोहित उनियाल के साथ, बच्चों के लिए डुगडुगी नाम से डेढ़ घंटे के निशुल्क स्कूल का संचालन कर रहे हैं। इसमें स्कूल जाने और नहीं जाने वाले बच्चे पढ़ते हैं। उत्तराखंड के बच्चों, खासकर दूरदराज के इलाकों में रहने वाले बच्चों के लिए डुगडुगी नाम से ई पत्रिका का प्रकाशन करते हैं।  बाकी जिंदगी की जी खोलकर जीना चाहते हैं, ताकि बाद में ऐसा न लगे कि मैं तो जीया ही नहीं। शैक्षणिक योग्यता - बी.एससी (पीसीएम), पत्रकारिता स्नातक और एलएलबी, मुख्य कार्य- कन्टेंट राइटिंग, एडिटिंग और रिपोर्टिंग

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button