ElectionFeaturedNewsPolitics

Congress: हरिद्वार क्षेत्र में Harish Rawat का भ्रमण कार्यक्रम जारी, प्रत्याशी को लेकर फिर चर्चा

Uttarakhand Congress: Suspense again regarding the candidate on Haridwar Seat 

देहरादून। कांग्रेस ने अभी हरिद्वार सीट पर प्रत्याशी की घोषणा नहीं की है, पर यह चर्चा जोरों पर है कि पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत के बेटे वीरेंद्र रावत को प्रत्याशी घोषित किया जा सकता है। हरीश रावत और वीरेंद्र की ओर से  कांग्रेस कार्यकर्ताओं को कल शनिवार को 11 बजे नारसन बुलाया गया है, जहां प्रत्याशी का स्वागत करते हुए चुनावी अभियान की शुरुआत की जाएगी।

पर, इस बीच पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत का हरिद्वार क्षेत्र में भ्रमण कार्यक्रम जारी किया गया है, जिसमें वीरेंद्र रावत का जिक्र नहीं है। हालांकि इसको पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत के भ्रमण कार्यक्रम का नाम दिया गया है। इससे एक बार फिर प्रत्याशी को लेकर संशय की स्थिति बन गई। क्या हरीश रावत प्रत्याशी होंगे या फिर वीरेंद्र रावत प्रत्याशी होंगे।

Also read: कांग्रेसः हरिद्वार सीट पर हरीश रावत या फिर वीरेंद्र रावत, स्वागत के लिए कार्यकर्ताओं को नारसन बुलाया

Also read: हरीश रावत को अपने लिए कुछ नहीं चाहिए, पर बेटे को चुनावी राजनीति में एंट्री मिल जाए

Also read: घोषणा होना बाकी, इन नेताओं को हरिद्वार और नैनीताल सीट पर उतार सकती है कांग्रेस

Rajesh Pandey

राजेश पांडेय, देहरादून (उत्तराखंड) के डोईवाला नगर पालिका के निवासी है। पत्रकारिता में  26 वर्ष से अधिक का अनुभव हासिल है। लंबे समय तक हिन्दी समाचार पत्रों अमर उजाला, दैनिक जागरण व हिन्दुस्तान में नौकरी की, जिनमें रिपोर्टिंग और एडिटिंग की जिम्मेदारी संभाली। 2016 में हिन्दुस्तान से मुख्य उप संपादक के पद से त्यागपत्र देकर बच्चों के बीच कार्य शुरू किया।   बच्चों के लिए 60 से अधिक कहानियां एवं कविताएं लिखी हैं। दो किताबें जंगल में तक धिनाधिन और जिंदगी का तक धिनाधिन के लेखक हैं। इनके प्रकाशन के लिए सही मंच की तलाश जारी है। बच्चों को कहानियां सुनाने, उनसे बातें करने, कुछ उनको सुनने और कुछ अपनी सुनाना पसंद है। पहाड़ के गांवों की अनकही कहानियां लोगों तक पहुंचाना चाहते हैं।  अपने मित्र मोहित उनियाल के साथ, बच्चों के लिए डुगडुगी नाम से डेढ़ घंटे के निशुल्क स्कूल का संचालन किया। इसमें स्कूल जाने और नहीं जाने वाले बच्चे पढ़ते थे, जो इन दिनों नहीं चल रहा है। उत्तराखंड के बच्चों, खासकर दूरदराज के इलाकों में रहने वाले बच्चों के लिए डुगडुगी नाम से ई पत्रिका का प्रकाशन किया।  बाकी जिंदगी की जी खोलकर जीना चाहते हैं, ताकि बाद में ऐसा न लगे कि मैं तो जीया ही नहीं। शैक्षणिक योग्यता - बी.एससी (पीसीएम), पत्रकारिता स्नातक और एलएलबी, मुख्य कार्य- कन्टेंट राइटिंग, एडिटिंग और रिपोर्टिंग

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button