agricultureBlog LiveFeaturedfood

फलों का इतिहासः क्या सबसे पुराने फल हैं खजूर और अंगूर

अंजीर और जैतून जैसे अन्य फलों का भी प्राचीन इतिहास है

न्यूज लाइव डेस्क

कुछ फलों की खेती और खपत का इतिहास हजारों साल पुराना है। हालांकि इनमें से, खजूर (Phoenix dactylifera) सबसे पुराने खेती वाले फलों में से एक है। माना जाता है कि मध्य पूर्व में खजूर की उत्पत्ति हुई, जहां इसकी खेती 6,000 वर्षों से अधिक समय से की जा रही है।

खजूर की खेती का उल्लेख प्राचीन ग्रंथों में मिलता है। मेसोपोटामिया, मिस्रवासी और अन्य प्राचीन सभ्यताएं खजूर को उसकी मिठास और पोषण सामग्री के लिए महत्व देती थीं। इसका विभिन्न समुदायों में सांस्कृतिक और धार्मिक महत्व रहा है। कई प्राचीन ग्रंथों में इसका उल्लेख प्रचुरता और समृद्धि के प्रतीक के रूप में किया गया है।

यह ध्यान रखना आवश्यक है कि अंजीर, अंगूर और जैतून जैसे अन्य फलों का भी प्राचीन इतिहास है और विभिन्न प्राचीन सभ्यताओं में इनकी खेती की गई थी। फलों की खेती का ऐतिहासिक रिकॉर्ड अच्छी तरह से डाक्यूमेंट नहीं है, इसलिए किसी एक “सबसे पुराने” फल को निश्चित रूप से पहचानना चुनौतीपूर्ण हो जाता है।

फलों का इतिहास व्यापक है और हजारों वर्षों तक फैला हुआ है, जो विभिन्न सभ्यताओं में विभिन्न फलों की खेती, व्यापार और खपत को दर्शाता है। यहां फलों के इतिहास का एक विस्तृत अवलोकन दिया गया है:

यह भी जानिए

3000 ईसा पूर्व मेसोपोटामिया और मिस्र की प्राचीन सभ्यताओं में खजूर, अंजीर और अनार जैसे फलों की खेती की जाती थी। फलों की खेती ने कृषि के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। प्राचीन चीनी ग्रंथों में आड़ू, प्लम और खुबानी की खेती का उल्लेख है। चीनी किसानों ने उन्नत बागवानी तकनीक विकसित की।

पूर्व ग्रीक साहित्य और कला में अंगूर और जैतून जैसे फलों के महत्व को दर्शाया गया है। अंगूर, विशेष रूप से, महत्वपूर्ण सांस्कृतिक और धार्मिक महत्व रखते थे, जैसा कि शराब के देवता डायोनिसस की पूजा में देखा जाता है।

रोमन्स ने फलों की खेती और व्यापार का विस्तार किया। जीते हुए क्षेत्रों से विदेशी फलों का आयात किया। उन्होंने व्यापक बाग-बगीचे भी बनवाए।

मध्य अरब ने बागवानी की उन्नति में योगदान दिया, यूरोप में खट्टे फल, केले और तरबूज जैसे नए फल लाए।

मध्यकालीन यूरोप में फल धन और स्थिति के प्रतीक बन गए। फलों की किस्मों के संरक्षण और खेती में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई गई।

पुनर्जागरण और अन्वेषण के युग 14वीं  से 17वीं शताब्दी में अमेरिका की खोज के कारण पुरानी और नई दुनिया के बीच विभिन्न फलों का आदान-प्रदान हुआ। टमाटर, आलू, अनानास और मिर्च यूरोप में लाए गए।

पुनर्जागरण के दौरान, खट्टे फल, विशेष रूप से संतरे, इटली में लोकप्रिय हो गए। संतरे की खेती शानदार बगीचों में की जाती थी और फल को प्रतिष्ठा का प्रतीक माना जाता था।

औद्योगिक क्रांति के दौर 18वीं – 19वीं शताब्दी में परिवहन में सुधार ने फलों के व्यापक वितरण को सुविधाजनक बनाया। रेलवे और स्टीमशिप से फलों को लंबी दूरी तक ले जाया जाने लगा, जिससे फलों के खराब होने की आशंका कम हो गई। विभिन्न क्षेत्रों के फल बड़ी संख्या में लोगों के लिए उपलब्ध हो गए। उदाहरण के लिए, मध्य अमेरिका के केले के बागान उत्तरी अमेरिका और यूरोप को फल की आपूर्ति करते थे।

20वीं सदी में बड़े पैमाने पर उत्पादन तथा कृषि प्रौद्योगिकी में प्रगति के कारण फलों का बड़े पैमाने पर उत्पादन हुआ। रेफ्रिजेशन के विकास और बेहतर परिवहन ने वैश्विक स्तर पर फलों की उपलब्धता को और बढ़ा दिया है।

वैज्ञानिकों ने आकार, स्वाद और रोग प्रतिरोधक क्षमता जैसे गुणों को बढ़ाने के लिए फलों को संकरण और आनुवंशिक रूप से संशोधित करने का प्रयोग शुरू किया।

हाल के दशकों में, जैविक खेती और टिकाऊ कृषि पद्धतियों में रुचि बढ़ रही है, जिससे फलों का उत्पादन और खपत प्रभावित हो रही है। बेहतर परिवहन और संचार ने दुनिया भर के विदेशी फलों को उपभोक्ताओं के लिए अधिक सुलभ बना दिया है। उपभोक्ता अब साल भर विविध प्रकार के फलों का आनंद लेते हैं।

पूरे इतिहास में, फल दुनियाभर के समाजों के सांस्कृतिक, आर्थिक और धार्मिक पहलुओं से जुड़े हुए हैं। फलों की खेती और खपत का विकास जारी है, जो कृषि पद्धतियों, व्यापार और खानपान संबंधी प्राथमिकताओं में बदलाव को दर्शाता है।

Rajesh Pandey

राजेश पांडेय, देहरादून (उत्तराखंड) के डोईवाला नगर पालिका के निवासी है। पत्रकारिता में  26 वर्ष से अधिक का अनुभव हासिल है। लंबे समय तक हिन्दी समाचार पत्रों अमर उजाला, दैनिक जागरण व हिन्दुस्तान में नौकरी की, जिनमें रिपोर्टिंग और एडिटिंग की जिम्मेदारी संभाली। 2016 में हिन्दुस्तान से मुख्य उप संपादक के पद से त्यागपत्र देकर बच्चों के बीच कार्य शुरू किया।   बच्चों के लिए 60 से अधिक कहानियां एवं कविताएं लिखी हैं। दो किताबें जंगल में तक धिनाधिन और जिंदगी का तक धिनाधिन के लेखक हैं। इनके प्रकाशन के लिए सही मंच की तलाश जारी है। बच्चों को कहानियां सुनाने, उनसे बातें करने, कुछ उनको सुनने और कुछ अपनी सुनाना पसंद है। पहाड़ के गांवों की अनकही कहानियां लोगों तक पहुंचाना चाहते हैं।  अपने मित्र मोहित उनियाल के साथ, बच्चों के लिए डुगडुगी नाम से डेढ़ घंटे के निशुल्क स्कूल का संचालन किया। इसमें स्कूल जाने और नहीं जाने वाले बच्चे पढ़ते थे, जो इन दिनों नहीं चल रहा है। उत्तराखंड के बच्चों, खासकर दूरदराज के इलाकों में रहने वाले बच्चों के लिए डुगडुगी नाम से ई पत्रिका का प्रकाशन किया।  बाकी जिंदगी की जी खोलकर जीना चाहते हैं, ताकि बाद में ऐसा न लगे कि मैं तो जीया ही नहीं। शैक्षणिक योग्यता - बी.एससी (पीसीएम), पत्रकारिता स्नातक और एलएलबी, मुख्य कार्य- कन्टेंट राइटिंग, एडिटिंग और रिपोर्टिंग

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button