कहानीः आसमान में घर बना दो

0
1209
Short stories

अफ्रीका के किसी गांव में एक व्यक्ति रहता था। वह बहुत होशियार था। वह हमेशा धनी व्यक्तियों और अपने मुखिया के बारे में मजाक करता रहता था। इस वजह से वह मुखिया को पसंद नहीं था। धनी व्यक्ति भी उससे नाराज रहते थे। एक दिन मुखिया ने सोचा कि क्योंं न इस व्यक्ति को सबक सिखाया जाए। इसलिए उसने एक योजना बनाई।

मुखिया ने किसी से संदेश भिजवाकर उसको अपने पास बुलवाया। वह मुखिया के सामने हाजिर हो गया। मुखिया ने कहा, सुना है, तुम बहुत होशियार हो।

वह मुस्कराते हुए मुखिया की बात सुनता रहा। मुखिया ने कहा, अगर तुम बहुत होशियार हो तो, क्या मेरे लिए आसमान में घर बना सकते हो। इस पर उस व्यक्ति ने हां करते हुए सिर हिलाया।

उसने कहा, जी मुखिया जी, आसमान में घर बनाना कौन सा कठिन काम है। मुखिया ने पूछा, कितने दिन में घर बना दोगे। उसने जवाब दिया, कल से काम शुरू कर दूंगा। यह कहकर वह व्यक्ति वहां से जाने लगा।

मुखिया ने उससे कहा, अगर तुमने आकाश में घर नहीं बनाया तो मेरे सेवक तुमको मार देंगे। उस व्यक्ति ने मुस्कराकर मुखिया की ओर देखा और फिर अपनी राह चला गया। दूसरे दिन उसने एक पतंग उड़ाई, जब पतंग काफी ऊंचाई पर पहुंच गई तो उसने डोर को एक पेड़ से बांध दिया।

इसके बाद वह मुखिया के पास पहुंचा और बोला, आसमान में आपके घर के लिए दीवारें खड़ी कर दी हैं, केवल छत डालनी रह गई है। आपसे निवेदन है कि अपने सेवकों से वहां लकड़ी के बोर्ड भिजवाने की कृपा करें, ताकि छत डाली जा सके।

मुखिया सोच में पड़ गया, इसने आकाश में दीवारें खड़ी कर दीं। फिर भी उसने अपने सेवकों से कहा कि जल्दी से इनके साथ जाओ, जैसे कहें, वैसे किया जाए। मुखिया के सेवक मौके पर पहुंचे तो देखा कि वहां पतंग उड़ रही है।

उन्होंने उस व्यक्ति से कहा, बताओ क्या करना है। उस व्यक्ति ने कहा, तुमको लकड़ी के बोर्ड वहां पतंग तक पहुंचाने हैं। सेवकों ने कहा, कैसी बेवकूफों वाली बात करते हो, वहां तक हम कैसे पहुंचेंगे। उसने जवाब दिया कि यह डोर देख रहे हो, इसके सहारे वहां पहुंचोगे।

उसने सेवकों से कहा, अगर तुमने मेरा कहना नहीं माना तो तुम्हारे मुखिया से कह दूंगा। इसलिए बोर्ड लेकर इस डोर के सहारे वहां पहुंचो। सेवकों ने कहा, यह कैसे संभव है। उसने जवाब दिया, तुम्हारे मुखिया ने ही आसमान में घर बनाने को कहा है। कोशिश करो, शायद तुम वहां पहुंच जाओ।

सेवकों ने कहा, कोशिश करने में कोई हर्ज नहीं है। नहीं तो यह मुखिया से कह देगा कि तुम्हारे सेवकों ने कोशिश तक नहीं की। यह कहते हुए उन्होंने प्रयास किया, लेकिन डोरी के सहारे पतंग तक पहुंचना तो असंभव सी बात थी।

सेवक दौड़ते हुए मुखिया के पास पहुंचे और बोले मुखिया जी, वो व्यक्ति पागल हो गया है। मुखिया भी मौके पर पहुंचा और कहने लगा कि पतंग तक पहुंचना संभव ही नहीं है।

इस पर उस व्यक्ति ने कहा, मुखिया जी,जब आपको पता था कि वहां तक कोई नहीं पहुंच सकता, तो आपने मुझे आकाश में घर बनाने का आदेश क्यों दिया। मुखिया के पास उसकी बात का कोई जवाब नहीं था। वह व्यक्ति हमेशा की तरह मुस्कराता हुआ पेड़ के पास पहुंचा और डोर को काटकर पतंग को हमेशा के लिए आजाद कर दिया।

 

Keywords:- Story for kids in hindi, Story for kids bedtime, story for kids with moral, story for kids short, story for kids-hare and the tortoise, story for kids in hindi, Bachchon ki kahaniya, Baal Katha

LEAVE A REPLY