FeaturedUttarakhand

सीएम बोले, मरीजों से ज्यादा शुल्क लेने वालों अस्पतालों पर कार्रवाई करें

देहरादून। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने कोविड -19 के नियंत्रण एवं कोविड वैक्सीनेशन की प्रगति के संबंध में जिलाधिकारियों के साथ वर्चुअल बैठक में टेस्टिंग, माइक्रो कन्टेनमेंट जोन, कोविड एप्रोप्रियेट बिहेवियर और इन्फोर्समेंट पर विशेष ध्यान देने के निर्देश दिए।
उन्होंने कहा कि कोविड की संभावित तीसरी लहर के दृष्टिगत सभी व्यवस्थाएं पूर्ण रखी जाएं। सभी जिलों में तैयारियां अच्छी हैं, लेकिन इन व्यवस्थाओं को कैसे और आगे बढ़ाया जा सकता है, इस पर ध्यान दिया जाए।
मुख्यमंत्री ने कहा कि कुछ प्राइवेट अस्पतालों में मरीजों से निर्धारित शुल्क से अधिक धनराशि लेने और अटल आयुष्मान कार्ड का लाभ नहीं दिए जाने की शिकायतें हैं। ऐसा करने वाले अस्पतालों पर सख्त कार्रवाई की जाए।
समय समय पर अस्पतालों का निरीक्षण भी किया जाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में टेस्टिंग और वैक्सीनेशन को और बढ़ाया जाए। इसके लिए नियमित शिविर लगाए जाएं।
मानसून सीजन को ध्यान में रखते हुए पर्वतीय क्षेत्रों में ऑक्सीजन सिलेंडर, आवश्यक दवाओं एवं सभी प्रकार की आवश्यक सामग्री की पूर्ण व्यवस्था की जाए।

सीएम साहब! प्राइवेट अस्पतालों में भर्ती कोरोना पीड़ितों को आर्थिक संकट से बचा लो

मुख्यमंत्री रावत ने कहा कि कोविड पर प्रभावी नियंत्रण के लिए राज्य सरकार हर संभव प्रयास कर रही है। ऑक्सीजन, आईसीयू बेड, वेंटिलटर की पर्याप्त व्यवस्था है। जिलों के अलावा सीएचसी स्तर तक भी ऑक्सीजन प्लांट लगाए जा रहे हैं।
उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि कोविड से लड़ाई के लिए किसी भी प्रकार की चुनौती के लिए तैयार रहें। डीआरडीओ के सहयोग से ऋषिकेश एवं हल्द्वानी में स्थापित कोविड केयर सेंटर से भी राज्य को काफी मदद मिलेगी।
मुख्य सचिव ओमप्रकाश ने कहा कि कोविड की संभावित तीसरी लहर के दृष्टिगत अगले दो माह विशेष सतर्कता बरतने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि प्रतिदिन 40 हजार टेस्टिंग का लक्ष्य जरूर पूरा किया जाए।
कोविड पर प्रभावी नियंत्रण के लिए लिए जागरूकता अभियान निरंतर चलता रहे। प्रचार के लिए नये माध्यमों पर ध्यान दिया जाए। इसके लिए रंगमंच कर्मियों का सहयोग लिया जाय, इससे जागरूकता भी अच्छी होगी।
मुख्य सचिव ने कहा कि इन्फोर्समेंट पर विशेष ध्यान दिया जाए। इसके लिए डिप्टी एसपी स्तर के अधिकारियों की ड्यूटी लगाई जाए।
इस अवसर पर मुख्यमंत्री के मुख्य सलाहकार शत्रुघ्न सिंह, अपर मुख्य सचिव मनीषा पंवार, डीजीपी अशोक कुमार, सचिव अमित नेगी, आर. मीनाक्षी सुंदरम, डॉ. पंकज पाण्डेय, डीजी स्वास्थ्य डॉ. तृप्ति बहुगुणा, वर्चुअल माध्यम से सभी कमिश्नर, जिलाधिकारी, एसएसपी, सीएमओ आदि उपस्थित रहे।
Key words:  Financial crisis in front of Corona Patient, Corona infection, COVID-19, Private Hospitals in Uttarakhand, Government Hospitals in Uttarakhand, Fight against Corona, Revenue Sources in Uttarakhand, Uttarakhand’s Chief Minister, Tirath Singh Rawat, Medical Stores, Medical Equipment’s used in Corona treatment, Demand of Oxygen, Oximeter, Oxygen’s cylinders, Quarantine, Isolation bad, COVID bad, उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण की स्थिति, ऑक्सीजन की मांग, ऑक्सीजन बेड, उत्तराखंड में सरकारी अस्पताल, उत्तराखंड के मुख्यमंत्री, तीरथ सिंह रावत, कोरोना संक्रमण से कैसे बचें, निजी अस्पतालों में इलाज महंगा क्यों, उत्तराखंड में राजस्व के स्रोत

newslive24x7

राजेश पांडेय, देहरादून (उत्तराखंड) के डोईवाला नगर पालिका के निवासी है। पत्रकारिता में  26 वर्ष से अधिक का अनुभव हासिल है। लंबे समय तक हिन्दी समाचार पत्रों अमर उजाला, दैनिक जागरण व हिन्दुस्तान में नौकरी की, जिनमें रिपोर्टिंग और एडिटिंग की जिम्मेदारी संभाली। 2016 में हिन्दुस्तान से मुख्य उप संपादक के पद से त्यागपत्र देकर बच्चों के बीच कार्य शुरू किया।   बच्चों के लिए 60 से अधिक कहानियां एवं कविताएं लिखी हैं। दो किताबें जंगल में तक धिनाधिन और जिंदगी का तक धिनाधिन के लेखक हैं। इनके प्रकाशन के लिए सही मंच की तलाश जारी है। बच्चों को कहानियां सुनाने, उनसे बातें करने, कुछ उनको सुनने और कुछ अपनी सुनाना पसंद है। पहाड़ के गांवों की अनकही कहानियां लोगों तक पहुंचाना चाहते हैं।  अपने मित्र मोहित उनियाल के साथ, बच्चों के लिए डुगडुगी नाम से डेढ़ घंटे के निशुल्क स्कूल का संचालन कर रहे हैं। इसमें स्कूल जाने और नहीं जाने वाले बच्चे पढ़ते हैं। उत्तराखंड के बच्चों, खासकर दूरदराज के इलाकों में रहने वाले बच्चों के लिए डुगडुगी नाम से ई पत्रिका का प्रकाशन करते हैं।  बाकी जिंदगी की जी खोलकर जीना चाहते हैं, ताकि बाद में ऐसा न लगे कि मैं तो जीया ही नहीं। शैक्षणिक योग्यता - बी.एससी (पीसीएम), पत्रकारिता स्नातक और एलएलबी, मुख्य कार्य- कन्टेंट राइटिंग, एडिटिंग और रिपोर्टिंग

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button