Analysis

झंगोराः पौष्टिकता का जवाब नहीं

  • डॉ. राजेन्द्र डोभाल, महानिदेशक विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद्, उत्तराखंड

विश्वभर में झंगोरा की 32 प्रजातियां पाई जाती है, जिसमें अधिकतम प्रजाति जंगली है केवल E. utilis तथा E. frumentacea ही मुख्यता उगाई जाती है। E. utitis जापान, कोरीया तथा चीन में जबकि E. frumentacea भारत तथा सेंट्रल अफ्रीका में उगाई जाती है। वैसे तो झंगोरे की उत्पति को सही-सही बता पाना बेहद मुश्किल है लेकिन कुछ वैज्ञानिक अध्ययनों के आधार पर झंगोरे की उत्पत्ति भारत तथा अफ्रीकी देशों में क्रमवत विकास के साथ-साथ पाई गई है।

Dogget 1989 के अध्ययन के अनुसार झंगोरा की उत्पत्ति इसकी जंगली प्रजाति E. crus-galli से लगभग 400 साल पूर्व मानी जाती है। कुछ Archeological वैज्ञानिकों के अनुसार जापान में Yayoi काल में झंगोरे का उत्पादन (Domestication) का वर्णन मिलता है।

झंगोरे में कार्बोहाइड्रेट 65.5g/100 gm की मात्रा चावल की अपेक्षा कम होने के कारण तथा धीमी गति पाचन होने के कारण इसे मधुमेह रोगियों के लिये सबसे उपयुक्त माना जाता है। झंगोरे में High dietary fiber तथा Low carbohydrate digestibility होने की वजह से शरीर में Glucose level को Maintain रखता है । यह Gluten free food का बेहतर विकल्प भी है, मुख्यत उन लोगों के लिये जो Celiac बीमारी से ग्रषित है।

झंगोरे में कार्बोहाइड्रेट के अलावा प्रोटीन -6.2 ग्राम, वसा-2.2 ग्राम, फाइबर-9.8 ग्राम, कैल्शियम -20 ग्राम, फास्फोरस 280 मि०ग्राम, आयरन- 5.0 मि0ग्राम, मैग्नीशियम- 82 मि0ग्राम, जिंक 3 मि0ग्राम पाया जाता है। झंगोरे में प्रोटीन 12 प्रतिशत जो कि 81.13 प्रतिशत 58.56% है तथा कार्बोहाइड्रेट 58.56% जो 25.88% Slow digestible होता है।

1970 के दशक तक भारत विश्व में सर्वाधिक Millet उत्पादक देश था। वर्ष 2000 तक देश के विभिन्न प्रदेशो में Millet का उत्पादन 50 से 70 प्रतिशत तक बढ़ा तथा वर्ष 2005 तक बदलती खाद्य शैली के चलते के Millet का उपयोग केवल पशुचारे तथा शराब बनाने तक सीमित रह गया। विश्व में वर्ष 2010 तक 0.23 टन प्रति हे0 Millet उत्पादन रहा।

विश्व में फ्रांस Millet उत्पादन में सबसे अग्रणी है, केवल फ्रांस में ही 3.3 टन प्रति हे0 Millet का उत्पादन होता है। FAO के वर्ष 2013 के अध्ययन के अनुसार भारत में 1,09,10,000.00 टन, नाईजेरिया में 50 लाख टन, चीन में 16,20,000 टन, सूडान में 10,90,000 टन तथा यूथोपिया में 8,07,56 लाख टन उत्पादन रहा जबकि मैखुरी, 2001 के अध्ययन के अनुसार उत्तराखण्ड मे झंगोरा के उत्पादन क्षेत्र में 72% की कमी आंकी गई है।

https://newslive24x7.com/anti-inflammatory-plant-berberis-aristata/

Agricultural Engineering colleges Research Institute, Post harvest Technology, Centre Tamil Nadu Agriculture University द्वारा झंगोरे की पोष्टिक महत्ता को देखते हुए झंगोरा से कई प्रकार के खाद्य उत्पाद पापड, इडली, यानों बढ़ाई, मुरूरकु, डोसा, पानीयारम, हाट कोलकटाई, रिवन पकोड, इडियापम, पुहो, उपमा, स्वीट कंसारी, अधीश्रम, खरी, खखरा, मिठाई, कोलकटाई आदि बनाई जाती है जिसकी स्थानीय बजार में खूब प्रचलन है। Millet का सर्वाधिक उपयोग विश्व में केवल Alcohol निर्माण के लिये Poultry feed में ही किया जाता है।

Amazon.in में झंगोरे से निर्मित प्राथमिक उत्पाद 90 से 150 किलोग्राम तक बेचे जा रहें हैं। भारत में ही कई राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय एजेंसीज के द्वारा झंगोरे का चावल विभिन्न देशो की निर्यात किया जाता है। वर्ष 2016 में ही भारत से संयुक्त अरब अमीरात तथा सिंगापुर की झंगारे का चावल निर्यात किया गया।

https://newslive24x7.com/rubus-ellipticus/

आज विश्व में ही नहीं राष्ट्रीय स्तर पर विभिन्न देशो में अनाज आधारित उत्पाद बहुतायात मात्रा में बनाया जाता है। Milletअन्य अनाज की अपेक्षा ज्यादा पोष्टिक, Gluten free तथा Slow digestible गुणों के कारण अन्य अनाजों के बजाय Millet का प्रयोग बहुतायत किया जा सकता है जो कि Millet उत्पादकों के लिये बाजार तथा उत्पादो के लिये Gluten free food का बाजार बन सकता है। उत्तराखण्ड में ही नहीं भारत में भी खेती योग्य भूमि का अधिकतम भू-भाग असिंचित होने के कारण पौष्टिकता से भरपूर Millet उत्पादन को बढ़ावा दिया जा सकता है जो कि आर्थिकी का एक बडा विकल्प होगा।

 

newslive24x7

राजेश पांडेय, देहरादून (उत्तराखंड) के डोईवाला नगर पालिका के निवासी है। पत्रकारिता में  26 वर्ष से अधिक का अनुभव हासिल है। लंबे समय तक हिन्दी समाचार पत्रों अमर उजाला, दैनिक जागरण व हिन्दुस्तान में नौकरी की, जिनमें रिपोर्टिंग और एडिटिंग की जिम्मेदारी संभाली। 2016 में हिन्दुस्तान से मुख्य उप संपादक के पद से त्यागपत्र देकर बच्चों के बीच कार्य शुरू किया।   बच्चों के लिए 60 से अधिक कहानियां एवं कविताएं लिखी हैं। दो किताबें जंगल में तक धिनाधिन और जिंदगी का तक धिनाधिन के लेखक हैं। इनके प्रकाशन के लिए सही मंच की तलाश जारी है। बच्चों को कहानियां सुनाने, उनसे बातें करने, कुछ उनको सुनने और कुछ अपनी सुनाना पसंद है। पहाड़ के गांवों की अनकही कहानियां लोगों तक पहुंचाना चाहते हैं।  अपने मित्र मोहित उनियाल के साथ, बच्चों के लिए डुगडुगी नाम से डेढ़ घंटे के निशुल्क स्कूल का संचालन कर रहे हैं। इसमें स्कूल जाने और नहीं जाने वाले बच्चे पढ़ते हैं। उत्तराखंड के बच्चों, खासकर दूरदराज के इलाकों में रहने वाले बच्चों के लिए डुगडुगी नाम से ई पत्रिका का प्रकाशन करते हैं।  बाकी जिंदगी की जी खोलकर जीना चाहते हैं, ताकि बाद में ऐसा न लगे कि मैं तो जीया ही नहीं। शैक्षणिक योग्यता - बी.एससी (पीसीएम), पत्रकारिता स्नातक और एलएलबी, मुख्य कार्य- कन्टेंट राइटिंग, एडिटिंग और रिपोर्टिंग

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button