ElectionFeatured

उत्तराखंड मतगणना रुझान डिटेल मेंः खटीमा में धामी पीछे चल रहे, 68 सीटों के रुझान में भाजपा 44 पर आगे

Uttarakhand
Result Status

Status Known For 68 out of 70 Constituencies
Party Won Leading Total
Bahujan Samaj Party 0 2 2
Bharatiya Janata Party 0 44 44
Independent 0 2 2
Indian National Congress 0 20 20
Total 0 68 68

 

Uttarakhand
Result Status

Status Known For 68 out of 70 Constituencies
Constituency Const. No. Leading Candidate Leading Party Trailing Candidate Trailing Party Margin Status
   1  2  3  4  5  6  7
Kapkot 46 Suresh Gariya
Bharatiya Janata Party i
Lalit Farswan
Indian National Congress i
2546 Result in Progress
Karnprayag 6 Mukesh Negi
Indian National Congress i
Anil Nautiyal
Bharatiya Janata Party i
1354 Result in Progress
Kashipur 63 Trilok Singh Cheema
Bharatiya Janata Party i
Narendra Chand Singh
Indian National Congress i
4991 Result in Progress
Kedarnath 7
0 Result in Progress
Khanpur 32 UMESH KUMAR
Independent i
RAVINDRA SINGH
Bahujan Samaj Party i
2637 Result in Progress
Khatima 70 Bhuwan Chandra Kapri
Indian National Congress i
Pushkar Singh Dhami
Bharatiya Janata Party i
954 Result in Progress
Kichha 67 Rajesh Shukla
Bharatiya Janata Party i
Tilak Raj Behar
Indian National Congress i
834 Result in Progress
Kotdwar 41 Ritu Khanduri Bhushan
Bharatiya Janata Party i
Surendra Singh Negi
Indian National Congress i
921 Result in Progress
Laksar 34 Shahzad
Bahujan Samaj Party i
Sanjay Gupta
Bharatiya Janata Party i
3693 Result in Progress
Lalkuwa 56 Dr. Mohan Singh Bisht
Bharatiya Janata Party i
Harish Rawat
Indian National Congress i
7347 Result in Progress

newslive24x7

राजेश पांडेय, देहरादून (उत्तराखंड) के डोईवाला नगर पालिका के निवासी है। पत्रकारिता में  26 वर्ष से अधिक का अनुभव हासिल है। लंबे समय तक हिन्दी समाचार पत्रों अमर उजाला, दैनिक जागरण व हिन्दुस्तान में नौकरी की, जिनमें रिपोर्टिंग और एडिटिंग की जिम्मेदारी संभाली। 2016 में हिन्दुस्तान से मुख्य उप संपादक के पद से त्यागपत्र देकर बच्चों के बीच कार्य शुरू किया।   बच्चों के लिए 60 से अधिक कहानियां एवं कविताएं लिखी हैं। दो किताबें जंगल में तक धिनाधिन और जिंदगी का तक धिनाधिन के लेखक हैं। इनके प्रकाशन के लिए सही मंच की तलाश जारी है। बच्चों को कहानियां सुनाने, उनसे बातें करने, कुछ उनको सुनने और कुछ अपनी सुनाना पसंद है। पहाड़ के गांवों की अनकही कहानियां लोगों तक पहुंचाना चाहते हैं।  अपने मित्र मोहित उनियाल के साथ, बच्चों के लिए डुगडुगी नाम से डेढ़ घंटे के निशुल्क स्कूल का संचालन कर रहे हैं। इसमें स्कूल जाने और नहीं जाने वाले बच्चे पढ़ते हैं। उत्तराखंड के बच्चों, खासकर दूरदराज के इलाकों में रहने वाले बच्चों के लिए डुगडुगी नाम से ई पत्रिका का प्रकाशन करते हैं।  बाकी जिंदगी की जी खोलकर जीना चाहते हैं, ताकि बाद में ऐसा न लगे कि मैं तो जीया ही नहीं। शैक्षणिक योग्यता - बी.एससी (पीसीएम), पत्रकारिता स्नातक और एलएलबी, मुख्य कार्य- कन्टेंट राइटिंग, एडिटिंग और रिपोर्टिंग

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button