FeaturedhealthUttarakhand

उत्तराखंड में पर्याप्त संख्या में ऑक्सीजन बेड, वेंटीलेटर उपलब्धः मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने शनिवार को श्रीनगर, रुद्रप्रयाग और चमोली जिले में कोविड केयर सेंटर्स का निरीक्षण किया। उन्होंने कहा कि राज्य में आक्सीजन की कोई कमी नहीं है।  सभी जिलों में ऑक्सीजन प्लांट लगाए जा रहे हैं। उनका कहना है कि राज्य में पर्याप्त संख्या में ऑक्सीजन बेड, वेंटीलेटर, पीपीई किट एवं अन्य आवश्यक संसाधन उपलब्ध हैं।
जनपद रुद्रप्रयाग में कोटेश्वर स्थित माधवाश्रम कोविड केयर सेंटर और जिला चिकित्सालय का निरीक्षण किया और यहां भर्ती कोविड मरीजों के स्वास्थ्य की जानकारी ली।
मुख्यमंत्री ने कहा कि कोविड रोकथाम के लिए सभी संसाधन जुटाए जा रहे हैं। साथ ही कहा, राज्य में ऑक्सीजन की कमी नहीं है। इसके लिए सभी जिलों में ऑक्सीजन प्लांट लगाए जा रहे हैं।
पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के तहत पहुंचे मुख्यमंत्री ने कोटेश्वर माधवाश्रम कोविड सेंटर में चिकित्सकों से कहा कि मरीजों से लगातार संवाद करते हुए उनकी निगरानी सुनिश्चित की जाए।
उन्होंने कहा कि डीआरडीओ के माध्यम से ऋषिकेश व हल्द्वानी में पांच-पांच सौ बेड के अस्पताल अगले कुछ दिन में तैयार हो जाएंगे। समय-समय पर लोगों को जागरूक करने की बात करते हुए कहा कि इसके लिए आशा व आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के माध्यम से घर-घर कोविड किट पहुंचाने का कार्य किया जा रहा है, ताकि प्राथमिक स्तर पर ही उपचार संभव हो सके और चिकित्सालय आने की आवश्यकता न हो।
मुख्यमंत्री ने कहा कि पूरे प्रदेश में सैंपलिंग लगातार बढ़ाई जा रही है। बीते रोज ही केंद्र सरकार से सौ मैट्रिक टन ऑक्सीजन प्राप्त हुआ है, जिसे दोनों मंडलों में भेजा गया है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में पर्याप्त संख्या में ऑक्सीजन बेड, वेंटीलेटर, पीपीई किट एवं अन्य आवश्यक संसाधन उपलब्ध हैं।
उन्होंने कहा कि पिछले कुछ दिनों में 345 नए चिकित्सकों की नियुक्ति की गई है। पहली बार सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भी चिकित्सकों को भेजा गया है।
18 से 45 वर्ष के सभी लोगों का निःशुल्क कोविड  वैक्सीनेशन किया जा रहा है, जिसमें खर्च होने वाली राशि करीब चार सौ करोड़ रुपये का वहन सरकार करेगी।
पूरे देश में निशुल्क वैक्सीनेशन करने वाला उत्तराखंड पहला राज्य है। उन्होंने सभी से वैक्सीनेशन कराने की अपील की।
मुख्यमंत्री रावत ने जिला अस्पताल गोपेश्वर में ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट और कोविड सेंटर की व्यवस्थाओं का निरीक्षण करते हुए  अगले दो दिन में ऑक्सीजन प्लांट स्टॉलेशन पूरा करने के निर्देश दिए।
मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने श्रीनगर बेस अस्पताल श्रीकोट, श्रीनगर एवं बिड़ला परिसर श्रीनगर में स्थापित 18 से 44 आयु वर्ग के लिए कोविड वैक्सीनेशन सेंटर का निरीक्षण किया। इसके बाद, मेडिकल कालेज के सभागार में संबंधित अधिकारियों के साथ बैठक ली।

Key words:- Chief Minister Tirath Singh Rawat, COVID Care Centers, Oxygen plants, Oxygen beds, Ventilators, PPE kits, Vaccination centers

Rajesh Pandey

राजेश पांडेय, देहरादून (उत्तराखंड) के डोईवाला नगर पालिका के निवासी है। पत्रकारिता में  26 वर्ष से अधिक का अनुभव हासिल है। लंबे समय तक हिन्दी समाचार पत्रों अमर उजाला, दैनिक जागरण व हिन्दुस्तान में नौकरी की, जिनमें रिपोर्टिंग और एडिटिंग की जिम्मेदारी संभाली। 2016 में हिन्दुस्तान से मुख्य उप संपादक के पद से त्यागपत्र देकर बच्चों के बीच कार्य शुरू किया।   बच्चों के लिए 60 से अधिक कहानियां एवं कविताएं लिखी हैं। दो किताबें जंगल में तक धिनाधिन और जिंदगी का तक धिनाधिन के लेखक हैं। इनके प्रकाशन के लिए सही मंच की तलाश जारी है। बच्चों को कहानियां सुनाने, उनसे बातें करने, कुछ उनको सुनने और कुछ अपनी सुनाना पसंद है। पहाड़ के गांवों की अनकही कहानियां लोगों तक पहुंचाना चाहते हैं।  अपने मित्र मोहित उनियाल के साथ, बच्चों के लिए डुगडुगी नाम से डेढ़ घंटे के निशुल्क स्कूल का संचालन किया। इसमें स्कूल जाने और नहीं जाने वाले बच्चे पढ़ते थे, जो इन दिनों नहीं चल रहा है। उत्तराखंड के बच्चों, खासकर दूरदराज के इलाकों में रहने वाले बच्चों के लिए डुगडुगी नाम से ई पत्रिका का प्रकाशन किया।  बाकी जिंदगी की जी खोलकर जीना चाहते हैं, ताकि बाद में ऐसा न लगे कि मैं तो जीया ही नहीं। शैक्षणिक योग्यता - बी.एससी (पीसीएम), पत्रकारिता स्नातक और एलएलबी, मुख्य कार्य- कन्टेंट राइटिंग, एडिटिंग और रिपोर्टिंग

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button