FeaturedSciencestudy

मच्छरों के लिए चुंबक की तरह होते हैं कुछ लोग

शोधकर्ताओं ने पाया, शरीर से निकलने वाली खास तरह की गंध की ओर आकर्षित होते हैं मच्छर

शोधकर्ताओं के दल ने एक रिसर्च में पाया कि कुछ लोग मच्छरों के लिए चुंबक की तरह होते हैं यानी मच्छर इनके शरीर से निकलने वाले विशेष तरह की गंध की ओर आकर्षित होते हैं। न्यूयॉर्क में रॉकफेलर यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने पाया कि जिन लोगों की त्वचा पर कुछ तरह के एसिड का उच्च स्तर होता है, वो मादा एडीज एजिप्टी के लिए सौ गुना अधिक आकर्षक होते हैं। ये मच्छर डेंगू, चिकनगुनिया, पीला बुखार और जीका जैसी बीमारियों को फैलाने के लिए जिम्मेदार होते हैं।

एक लेख में, वाशिंगटन विश्वविद्यालय के प्रोफेसर एवं मच्छर विशेषज्ञ जेफ रिफेल, जो अनुसंधान में शामिल नहीं थे, के हवाले से कहा गया है, मच्छर जनित रोग प्रति वर्ष लगभग 700 मिलियन लोगों को प्रभावित करते हैं, और विशेषज्ञों को उम्मीद है कि वैश्विक तापमान में वृद्धि के साथ यह संख्या बढ़ेगी। एजिप्टी मच्छर उष्णकटिबंधीय या उपोष्णकटिबंधीय जलवायु में रहने के लिए जाने जाते हैं।

हॉवर्ड ह्यूजेस मेडिकल इंस्टीट्यूट के मुख्य वैज्ञानिक अधिकारी और नए अध्ययन के प्रमुख शोधकर्ता लेस्ली वोशाल का कहना है, केवल सांस लेने से ही, हम मच्छरों को यह बात प्रसारित कर रहे हैं कि हम वहां हैं। मादा मच्छरों को खून के लिए काटने हेतु बनाया गया है, क्योंकि इसके बिना उनके पास प्रजनन के लिए पर्याप्त प्रोटीन नहीं होगा।  इसे एक बड़े प्रोटीन शेक की तरह समझें। यह उनके लिए एक मिनट के दौरान, 150 पाउंड भोजन लेने के बराबर और फिर इसको अंडे देने के लिए उपयोग करने का एक तरीका है।

वैज्ञानिकों को पहले से ही पता था कि ये मच्छर कुछ इंसानों को दूसरों से ज्यादा पसंद करते हैं, लेकिन इसका कारण पूरी तरह से समझा नहीं जा सका है।

विशेषज्ञों ने पाया है कि गर्भवती महिलाएं या बियर पीने के बाद लोग मच्छरों के लिए अधिक आकर्षक होते हैं, तो इस बात पर और शोध किया जा सकता है कि मच्छरों को कुछ गंधों के लिए खींचा जा सकता है या नहीं।

वोशाल, जिनकी प्रयोगशाला रॉकफेलर विश्वविद्यालय में है, ने यह पता लगाने के लिए निर्धारित किया कि कुछ लोगों को दूसरों की तुलना में एजिप्टी मच्छर से बेहतर गंध क्यों आती है। इस प्रयोग को करने के लिए किसी को भी मच्छरों से भरे कमरे में नहीं बैठना पड़ा। इसके बजाय, शोधकर्ताओं ने लोगों की त्वचा से प्राकृतिक गंध को उनकी बाहों पर नायलॉन स्टॉकिंग्स पहनाकर एकत्र किया। उन्होंने स्टॉकिंग्स को दो इंच के टुकड़ों में काट दिया और कपड़े के दो टुकड़ों को दो अलग-अलग दरवाजों के पीछे एक प्लास्टिक बॉक्स में रख दिया, जहां दर्जनों मच्छर उड़ रहे थे। शोधकर्ताओं ने पाया, जिनकी त्वचा पर कार्बोक्जिलिक एसिड नामक यौगिकों के उच्च स्तर होते हैं, वे “मच्छर चुंबक” होने की अधिक संभावना रखते हैं।

सभी मनुष्य अपनी त्वचा पर waxy coating sebum के माध्यम से कार्बोक्जिलिक एसिड का उत्पादन करते हैं। सीबम तब लाखों लाभकारी सूक्ष्मजीवों द्वारा खाया जाता है, जो अधिक कार्बोक्जिलिक एसिड का उत्पादन करने के लिए त्वचा पर रहते हैं। प्रचुर मात्रा में, एसिड गंध पैदा कर सकता है जिसमें पनीर या बदबूदार पैरों की तरह गंध आती है। यह गंध मानव रक्त की तलाश में मादा मच्छरों को आकर्षित करती प्रतीत होती है।

विशेष रूप से, अध्ययन में इस्तेमाल किए गए नायलॉन स्टॉकिंग्स वास्तव में पसीने की तरह गंध नहीं करते थे। मच्छर मानव गंध के प्रति अविश्वसनीय रूप से संवेदनशील होते हैं और इत्र या कोलोन इसे ढक नहीं सकते। प्रयोग तीन साल तक चला और इसमें वही लोग शामिल रहे, भले ही उन्होंने उस दिन क्या खाया या अपना शैम्पू बदल दिया।

“यदि आप आज मच्छर चुंबक हैं, तो आप अब से तीन साल बाद भी मच्छर चुंबक होंगे,” वोशाल का कहना है।

अध्ययन ये यह पता नहीं चला कि क्यों कुछ लोगों की त्वचा पर दूसरों की तुलना में अधिक कार्बोक्जिलिक एसिड होता है। लेकिन, वोशाल का कहना है, त्वचा में माइक्रोबायोम की संरचना प्रत्येक व्यक्ति में अद्वितीय होती है।

“हर किसी की त्वचा पर रहने वाले बैक्टीरिया का एक पूरी तरह से अनोखा गाँव होता है,” वोशाल ने कहा। “मच्छर चुंबकत्व के कुछ अंतर जो हम यहां देख रहे हैं, वे केवल बैक्टीरिया के प्रकारों में अंतर हो सकते हैं।”

वेंडरबिल्ट विश्वविद्यालय के प्रोफेसर एलजे ज़्विबेल, जो शोध में शामिल नहीं थे, ने कहा कि अध्ययन में कार्बोक्जिलिक एसिड स्पष्ट रूप से शामिल हैं, लेकिन मच्छरों को आकर्षित करने वाला कोई “एकल यौगिक” नहीं है। यह शायद विभिन्न घटकों का एक “कॉकटेल” है, जो मच्छर को घर में घुसने और काटने का संकेत देता है।

“मच्छर एक मल्टीमॉडल चुंबक है, जो बहुत सारे विभिन्न संकेतों का उपयोग करता है,” ज़्विबेल ने कहा। कार्बोक्जिलिक एसिड “एक महत्वपूर्ण घटक है लेकिन केवल एक ही नहीं है।”

जो व्यक्ति नहीं चाहते कि उनको मच्छर काटें, उनको ज़्विबेल की सलाह है कि “इन सभी रसदार यौगिकों” को काटने के लिए स्नान करें, जो आपकी त्वचा पर हैं, विशेष रूप से आपके पैरों के आसपास “अद्वितीय गंध” के साथ।

वोशाल ने कहा कि भविष्य यह पता लगाना है कि त्वचा से उत्पन्न होने वाली गंध और संभावित रूप से वहां रहने वाले बैक्टीरिया को “हेरफेर” कैसे किया जाए। उदाहरण के लिए, वैज्ञानिक एक प्रोबायोटिक त्वचा क्रीम विकसित करने में सक्षम हो सकते हैं जो कुछ उत्पादों के स्तर को बाधित या कम करती है, जिससे व्यक्ति मच्छरों के लिए कम आकर्षक हो सकता है। (अनुवादित)

यहां पढ़ें- मूल लेख

newslive24x7

राजेश पांडेय, देहरादून (उत्तराखंड) के डोईवाला नगर पालिका के निवासी है। पत्रकारिता में  26 वर्ष से अधिक का अनुभव हासिल है। लंबे समय तक हिन्दी समाचार पत्रों अमर उजाला, दैनिक जागरण व हिन्दुस्तान में नौकरी की, जिनमें रिपोर्टिंग और एडिटिंग की जिम्मेदारी संभाली। 2016 में हिन्दुस्तान से मुख्य उप संपादक के पद से त्यागपत्र देकर बच्चों के बीच कार्य शुरू किया।   बच्चों के लिए 60 से अधिक कहानियां एवं कविताएं लिखी हैं। दो किताबें जंगल में तक धिनाधिन और जिंदगी का तक धिनाधिन के लेखक हैं। इनके प्रकाशन के लिए सही मंच की तलाश जारी है। बच्चों को कहानियां सुनाने, उनसे बातें करने, कुछ उनको सुनने और कुछ अपनी सुनाना पसंद है। पहाड़ के गांवों की अनकही कहानियां लोगों तक पहुंचाना चाहते हैं।  अपने मित्र मोहित उनियाल के साथ, बच्चों के लिए डुगडुगी नाम से डेढ़ घंटे के निशुल्क स्कूल का संचालन कर रहे हैं। इसमें स्कूल जाने और नहीं जाने वाले बच्चे पढ़ते हैं। उत्तराखंड के बच्चों, खासकर दूरदराज के इलाकों में रहने वाले बच्चों के लिए डुगडुगी नाम से ई पत्रिका का प्रकाशन करते हैं।  बाकी जिंदगी की जी खोलकर जीना चाहते हैं, ताकि बाद में ऐसा न लगे कि मैं तो जीया ही नहीं। शैक्षणिक योग्यता - बी.एससी (पीसीएम), पत्रकारिता स्नातक और एलएलबी, मुख्य कार्य- कन्टेंट राइटिंग, एडिटिंग और रिपोर्टिंग

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button